Home Philosophy • अनहद में बिसराम – Anahad Mein Bisram (Hindi Edition) - download pdf or read online

अनहद में बिसराम – Anahad Mein Bisram (Hindi Edition) - download pdf or read online

‘जात हमारी ब्रह्म है, माता-पिता है राम।
गिरह हमारा सुन्न में, अनहद में बिसराम।।’
"दरिया कहते हैं: एक ही बात याद रखो कि परमात्मा के सिवा न हमारी कोई माता है, न हमारा कोई पिता है। और ब्रह्म के सिवाय हमारी कोई जात नहीं। ऐसा बोध अगर हो, तो जीवन में क्रांति हो जाती है।तो ही तुम्हारे जीवन में पहली बार धर्म के सूर्य का उदय होता है।

‘गिरह हमारा सुन्न में।’
तब तुम्हें पता चलेगा कि शून्य में हमारा घर है। हमारा असली घर, जिसको बुद्ध ने निर्वाण कहा है, उसी को दरिया शून्य कह रहे हैं। परम शून्य में, परम शांति में, जहां लहर भी नहीं उठती, ऐसे शांत सागर में या शांत झील में, जहां कोई विचार की तरंग नहीं, वासना की कोई उमंग नहीं, जहां विचार का कोई उपद्रव नहीं, जहां शून्य संगीत बजता है, जहां अनाहत नाद गूंज रहा है—वहीं हमारा घर है।

‘अनहद में बिसराम।’
और जिसने उस शून्य को पा लिया, उसने ही विश्राम पाया। और ऐसा विश्राम जिसकी कोई हद नहीं है, जिसकी कोई सीमा नहीं है।"—ओशो

पुस्तक के कुछ विषय-बिंदु:
अनहद में बिसराम क्या है?
जीवन एक पाठशाला है
सम्यक ज्ञान का अर्थ
मन का अर्थ क्या होता है?

उद्धरण : अनहद में बिसराम - पहला प्रवचन - संसार पाठशाला है

"दरिया कहते हैं, एक ही बात याद रखो कि परमात्मा के सिवा न हमारी कोई माता है, न हमारा कोई पिता है। और ब्रह्म के सिवाय हमारी कोई जात नहीं।
ऐसा बोध अगर हो, तो जीवन में क्रांति हो जाती है। तो ही तुम्हारे जीवन में पहली बार धर्म के सूर्य का उदय होता है।

‘गिरह हमारा सुन्न में।’
तब तुम्हें पता चलेगा कि शून्य में हमारा घर है--हमारा असली घर! जिसको बुद्ध ने निर्वाण कहा है, उसी को दरिया शून्य कह रहे हैं। परम शून्य में, परम शांति में, जहां लहर भी नहीं उठती, ऐसे शांत सागर में या शांत झील में, जहां कोई विचार की तरंग नहीं, वासना की कोई उमंग नहीं, जहां विचार का कोई उपद्रव नहीं, जहां शून्य संगीत बजता है, जहां अनाहत नाद गूंज रहा है--वहीं हमारा घर है।

अनहद में बिसराम।’
और जिसने उस शून्य को पा लिया, उसने ही विश्राम पाया। और ऐसा विश्राम जिसकी कोई हद नहीं है, जिसकी कोई सीमा नहीं है।
‘अनहद में बिसराम।’ यही संन्यासी की परिभाषा है। ‘गिरह हमारा सुन्न में, अनहद में बिसराम।’
यह संन्यासी की पूरी परिभाषा आ गई। मगर इसके लिए जरूरी है कि हम जानें:
‘जात हमारी ब्रह्म है, माता-पिता है राम।’
मैं अपने संन्यासी को न तो ईसाई मानता हूं, न हिंदू, न मुसलमान, न जैन, न बौद्ध। मेरा संन्यासी तो सिर्फ शून्य की खोज कर रहा है। सारी दीवारें गिरा रहा है। मेरा संन्यासी तो अनहद की तलाश में लगा है, सीमाओं का अतिक्रमण कर रहा है। घर छोड़ना नहीं है। घर में रहते ही जानना है कि घर मेरी सीमा नहीं है। परिवार छोड़ना नहीं है। परिवार में रहते ही जानना है कि परिवार मेरी सीमा नहीं है। बस, यह बोध! इस बोध को ध्यान कहो, जागरण कहो, विवेक कहो, सुरति कहो; जो भी शब्द तुम्हें प्रीतिकर हो, वह कहो। लेकिन इसे लक्ष्य समझो कि पहुंचना है शून्य में; तभी तुम्हें विश्राम मिलेगा। नहीं तो जीवन एक संताप है, एक पीड़ा है, एक विरह है। विरह की अग्नि! इसमें हम झुलसे जाते हैं; थके जाते हैं; टूटे जाते हैं; बिखरे जाते हैं; उखड़े जाते हैं। हमारे पत्ते-पत्ते कुम्हला गए हैं; फूलों के खिलने की तो बात बहुत दूर, हमारी जड़ें सूखी जा रही हैं। और जैसे ही किसी ने शून्य में अपनी जड़ें जमा लीं, तत्क्षण हरियाली छा जाती है; फूल उमग आते हैं; वसंत आ जाता है। बहार आ जाती है। फूलों में गंध आ जाती है। भंवरे गीत गाने लगते हैं। मधुमक्खियां गुंजार करने लगती हैं।

उस उत्सव की घड़ी में ही जानना कि जीवन कृतार्थ हुआ है।"—ओशो

Show description

Read or Download अनहद में बिसराम – Anahad Mein Bisram (Hindi Edition) PDF

Similar philosophy books

Buddha Is as Buddha Does: The Ten Original Practices for - download pdf or read online

In 2006 His Holiness the Dalai Lama, who calls Lama Surya Das the yankee Lama, acknowledged to an American viewers, "It isn't really sufficient simply to meditate and pray, that are continuously great things to do, yet we additionally needs to take confident motion during this international. "In the method of awakening, the Buddha learned that each one folks, deep inside, are inherently excellent and entire, with the skill to beat affliction and rework ourselves into forces for strong.

New PDF release: The Taoist Soul Body: Harnessing the Power of Kan and Li

A consultant to the perform of the Lesser Kan and Li that provides start to the soul physique and the immortal spirit physique • indicates find out how to wake up larger recognition via practices in overall darkness that stimulate the discharge of DMT by means of the pineal gland • indicates the way to rework sexual power into life-force power to feed the soul physique The Lesser Enlightenment of Kan and Li perform combines the compassion of the center energies (yang/fire) with sexual energies originating within the kidneys (yin/water) to shape and feed the soul or power physique.

's The Origin of Creation: From the Pre-Material World to Adam PDF

This ebook starts off with a finished and concise research of all that happened within the pre-material international of al-Azal and the start of construction of this earthly global; it then keeps through guiding us in the direction of the one manner which may aid us to envision the reality, and to realize center imaginative and prescient of those evidence of which most folks are ignorant.

Extra info for अनहद में बिसराम – Anahad Mein Bisram (Hindi Edition)

Sample text

Download PDF sample

अनहद में बिसराम – Anahad Mein Bisram (Hindi Edition)


by Ronald
4.4

Rated 4.42 of 5 – based on 28 votes

Author:admin